Today

नागरिकों को प्रौद्योगिकी की शक्ति से अधिकार संपन्न कर रहा है भारत- मोदी

Report by manisha yadav

नयी दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि 21वीं सदी का बदलता हुआ भारत अपने नागरिकों को टेक्नॉलॉजी की ताकत से लगातार अधिकार संपन्न और मजबूत बना रहा है और जनता का सरकार पर भरोसा बढ़ा है।
श्री मोदी ने सरकार और जनता के बीच विश्वास की कमी को गुलामी का प्रतीक बताते हुए कहा कि उनकी सरकार ने लोगों पर भरोसा किया है, कर रिटर्न छोटी भूल को अपराध की परिभाषा से बाहर किया है और छोटी मझौली इकाइयों के लिए कर्ज की गारंटी बनी है।
बजट 2023-24 के विभिन्न पहलुओं पर बजट- उपरांत वेबिनार की श्रृंखला में आज की कड़ी को संबोधित करते हुए श्री मोदी ने कहा कि विगत वर्षों में उनकी सरकार के हर बजट में प्रौद्योगिकी की मदद से देशवासियों के जीवन को आसान बढ़ाने की दिशा में प्रगति पर जोर दिया गया है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि आज सरकार की नीतियों और निर्णयों का सकारात्मक प्रभाव हर उस जगह दिखने लगा है जहां इसकी सबसे ज्यादा जरूरत है । उन्होंने कहा “ हमारा प्रयास हर गरीब और वंचित की जीवन को आसान बनाना है उसके लिए जिंदगी में आसानी को बढ़ाना है। आज लोग सरकार को रास्ते की रुकावट मानने की जगह हमारी सरकार को नए अवसरों के उत्प्रेरक के रूप में देखते हैं ।”
उन्होंने कहा कि सरकार ने देशवासियों की ईज आफ लिविंग (जिंदगी की आसानी) बढ़ाई है। इसी संदर्भ में उन्होंने कहा, प्रौद्योगिकी, एक देश -एक राशन कार्ड का आधार बनी और इससे करोड़ों गरीबों को पारदर्शिता के साथ राशन मिलना सुनिश्चित हुआ है। प्रौद्योगिकी, जनधन ,आधार और मोबाइल का आधार बनी और इससे करोड़ों गरीबों के बैंक खातों में सीधे पैसा भेजना संभव हुआ।”
श्री मोदी ने कहा कि टेक्नोलॉजी के चलते ही आरोग्य सेतु और कोशिश ऐप बने और इससे कोरोना महामारी के दौरान व्यक्तियों की पहचान और टीकाकरण में बड़ी मदद मिली। प्रौद्योगिकी ने रेलवे आरक्षण को और आधुनिक बनाया है और इसे सामान सामान्य लोगों का बड़ा सिरदर्द दूर हुआ है।
प्रधानमंत्री ने कहा कि टेक्नोलॉजी के चलते आज कर से संबंधित शिकायतें कम हुई है। सरकार ने टेक्नोलॉजी की मदद से कर की पूरी प्रक्रिया को फेसलेस (आमना सामना समाप्त) कर दिया है। टैक्स से संबंधित मामलों में पहले करदाताओं को कई तरीके से परेशान किया जाता था उसे दूर करने के लिए ही फेसलेस प्रक्रिया अपनाई गई है।
श्री मोदी ने कहा “ प्रौद्योगिकी के प्रयोग को बढ़ावा देने के लिए बड़े पैमाने पर निवेश किया जा रहा है । हम भारत में आधुनिक डिजिटल इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार कर रहे हैं साथ ही यह भी सुनिश्चित कर रहे हैं कि डिजिटल क्रांति का फायदा समाज के हर वर्ग तक पहुंचे।”
उन्होंने कहा कि सरकार और लोगों के बीच विश्वास की कमी गुलामी की मानसिकता का परिणाम है। इसी संदर्भ में उन्होंने कहा कि आज कर संबंधी मामलों में छोटी गलतियों को अपराध की परिभाषा से बाहर करके और सूक्ष्म लघु मझोले उद्यमों को ऋण के गारंटर के तौर पर सरकार ने लोगों का भरोसा जीता है। सरकार ने देश में सूक्ष्म लघु मझोले उद्यम क्षेत्र को मदद पहुंचाने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं।