e-mail : abdulhamid97@gmail.com

Saturday, 15 May 2021 - 12:44am

Report by shabnam khan

कानपुर। | छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय (सीएसजेएमयू) व संबद्ध महाविद्यालयों के स्नातक व परास्नातक की वार्षिक परीक्षाएं मई में शुरू होंगी। जल्द ही शेड्यूल तैयार कर जारी कर दिया जाएगा। यह फैसला मंगलवार को विवि की परीक्षा समिति में लिया गया। 31 छात्रों की पीएचडी पर भी मुहर लग गई है, जिन्हें 22 मार्च को 35वें दीक्षांत समारोह में प्रदान की जाएगी। बैठक में कई पूर्व फैसलों पर भी अंतिम मुहर लग गई।
सेंटर फॉर एकेडमिक्स में मंगलवार को कुलपति प्रो. डीआर सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक में छात्र व परीक्षा से जुड़े कई मामलों पर चर्चा की गई। तय हुआ कि एलएलएम के तृतीय सेमेस्टर के छात्रों को प्रमोट कर दिया जाएगा। जल्द इनका रिजल्ट भी जारी करने का निर्देश दिया गया। डीआर सिंह ने बताया कि दो फरवरी को शासन की ओर से जारी निर्देश के अनुसार परीक्षाएं मई में कराने की तैयारी है। मौखिक परीक्षा पूरी होने के बाद छात्रों की पीएचडी पूरी हो गई है। बीएड की परीक्षा सत्र 2017-18 और 2018-19 के छात्रों की मौखिक परीक्षा छूट गई थी, उनको कराने की अनुमति दे दी गई है। मेजर एसडी सिंह डिग्री कॉलेज के चार छात्र नकल में पकड़े गए थे। उन्होंने सप्लीमेंटरी परीक्षा पास कर ली। छात्रों ने मुख्य परीक्षा में पास करने का अनुरोध किया था। जिसे मान लिया गया है। रजिस्ट्रार डॉ. अनिल कुमार यादव, डीन एकेडमिक प्रो. संजय स्वर्णकार, प्रो. नंदलाल, प्रो. अंशु यादव, एसएल पाल और कूटा अध्यक्ष डॉ. बीडी पांडेय आदि मौजूद रहे।
5 कॉलेज एक साल के लिए डिबार
पिछले वर्ष वार्षिक परीक्षा के दौरान 18 कॉलेज नकल में पकड़े गए थे। इन कॉलेजों की जांच यूएफएम कमेटी ने किया। जिसमें 13 कॉलेजों को साक्ष्य के हिसाब से छोड़ दिया गया। पांच कॉलेजों को नकल में दोषी पाया गया। इन पांच कॉलेजों को एक वर्ष के लिए डिबार कर दिया गया है।
35 साल बाद होगा समस्या का समाधान
एक अनोखा मामला रखा गया। शशिलता गुप्ता के आवेदन पर चर्चा हुई। शशिलता ने वर्ष 1985 में बीएड की परीक्षा पास की थी। जिसमें ऐच्छिक विषय अंग्रेजी के बजाए अर्थशास्त्र हो गया है। इस मामले में कुलपति ने परीक्षा नियंत्रक को जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

शेयर करे

Add new comment

जनता की राय

अपनी राय दीजिये ,26 जनवरी में कागज के तिरंगे पर प्रतिबंध लगाना चाहिए ताकी उसका अपमान न हो ?

User login