e-mail : abdulhamid97@gmail.com

Friday, 21 January 2022 - 10:55am

रायपुर। तुंहर सरकार, तुंहर द्वार शिविर में जनता की समस्याओं का तुरंत निराकरण करना है, लेकिन निगम अमला समस्याओं का तुुरंत निराकरण नहीं कर पा रहा है। निगम प्रशासन शिविर में सालों पुराने पेंडिंग मजदूर कार्ड बांट कर वाहवाही लूटने का काम कर रहा है। वाहवाही लूटने के चक्कर में निगम ने कुछ ऐसे लोगों का मजदूर कार्ड जारी कर दिया है, जिनकी दो साल पहले मौत हो गई है। निगम प्रशासन ने शहीद चूड़ामणि वार्ड में मजूदर कार्ड बनाकर जो सूची पार्षद को सौंपी है, उसमें दो लोगों की मौत हो चुकी है और कुछ लोग लापता हैं।

नईदुनिया ने निगम द्वारा त्वरित निदान कर बांटे जा रहे मजदूर कार्ड की जब पड़ताल की, तब इसका खुलासा हुआ है। निगम के अधिकारियों की इस करतूत से यह साबित हो गया है कि शिविर महज दिखावे के लिए लगाया जा रहा है। निगम के अधिकारियों का कहना है कि मजदूर कार्ड बनाने के लिए जिनका आवेदन आया था, कार्ड बनाकर बांटने का काम किया जा रहा है। वहीं, पार्षद ने आरोप लगाया है कि शिविर में जनता की समस्याओं का निदान नहीं हो रहा है। शिविर में सिर्फ दिखावा हो रहा है। ज्ञात हो कि रायपुर नगर निगम के महापौर एजाज ढेबर का कार्यकाल एक साल पूरा होने पर महापौर द्वारा तुंहर सरकार, तुंहर द्वार नामक कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। महापौर का दावा था कि शिविर में आने वाले आवेदन का तुरंत निदान किया जाएगा। शिविर प्रतिदिन दो अलग-अलग वार्डों में लग रहा है, जहां सैकड़ों आवेदन आ रहे हैं। मगर, कम लोगों का ही काम हो पा रहा है, बाकी लोग मायूस होकर वापस लौट रहे हैं।निगम जनता की आंख में धूल झोंक रहा है। पुराने आवेदन, जिनका काम हो चुका है, उस आवेदन को शिविर में लाकर लोगों को बांटने का काम किया जा रहा है। नईदुनिया की टीम सोमवार को इसकी हकीकत जानने के लिए शहीद चूड़ामणि वार्ड पहुंची तो जो तथ्य सामने आए, वे चौंकाने वाले थे। निगम ने पार्षद को कामों के निराकरण की सूची सौंपी है, उसमें से दो लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं, एक व्यक्ति कई सालों से रायपुर में नहीं रह रहा ह

शेयर करे

Add new comment